chhammakchhallokahis

रफ़्तार

Total Pageviews

छम्मकछल्लो की दुनिया में आप भी आइए.

Pages

|

Thursday, June 5, 2014

सिंघारदान-उर्दू कहानी: शमोएल अहमद

           इसके पहले छम्मकछल्लो ने आपको आधुनिक मैथिली कथा साहित्य की वरिष्ठतम महिला लेखक लिली रे की कहानी- "बिल टेलर की डायरी" पढ़वाई थी। छम्मकछल्लो अपने पाठकों के प्रति हृदय से आभार जताती है। 

           छम्मकछल्लो आज आपके लिए उर्दू के एक वरिष्ठ लेखक शमोएल अहमद की कहानी "सिंघारदान" लेकर आई है। यह कहानी महज दंगे की नहीं है। इस कहानी पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कथाकार गीताश्री ने लिखा है-  "सिंघारदान" प्रतीक है अपने करमों का। अपना किया पीछा करता है और वक्त की बेरहमी से बच नहीं पाता आतताई भी।  "सिंघारदान" अपना जमीर है, जिससे आँख मिलाने का साहस बलवाई भी नाही कर पाया।" 

             कथाकार व उपन्यासकार कविता लिखती हैं- " लाजवाब कर देनेवाली कहानी है  "सिंघारदान"। हम खुद मे ही नहीं होते, अपने साजो-सामान और असबाबों में भी होते हैं। ...दरअसल, प्रवृत्तियों का परिचायक होता है हमारा साजो-सामान। नसीमजान के  "सिंघारदान" के साथ उसकी प्रवृत्तियाँ या स्वभाव और आदतें भी चली आती हैं- बृजमोहन के घर तक। जबरन लाया गया वह  "सिंघारदान" उसे याद दिलाता रहता है उसके कर्मों को। नीति कथाओं जैसा ही एक संदेश, जब हम खुद गलत कर रहे हैं, तो दूसरों को या अपनों को रोकने-टोकने का हक भी खो देते हैं। भीतर ही भीतर घुल सकते हैं, बस...." 

            आप भी पढ़िये कहानी  "सिंघारदान" और अपनी राय देना न भूलिए। 


सिंघारदान
दंगे में रंडियां भी लूटी गई थी....
बृजमोहन को नसीम जान का सिंघारदान हाथ लगा था। सिंघारदान का फ्रेम हाथीदांत का था जिसमें आदमकद आईना जड़ा हुआ था और बृजमोहन की लड़कियां बारी-बारी से शीशे में अपना अक्‍स देखा करती थीं। फ्रेम में जगह-जगह तेल, नाखून पालिशऔर लिपस्टिक के धब्‍बे थे जिससे उसका रंग मटमैला हो गया था और बृजमोहन हैरान था कि इन दिनों उसकी बेटियों के लच्‍छन...
ये लच्‍छन पहले नहीं थे। पहले भी वे बालकोनी में खड़ी रहती थीं लेकिन अंजदाज यह नहीं होता था... अब तो छोटी भी चेहरे पर उसी तरह पाउडर थोपती थी और होंठों पर गाढ़ी लिपस्टिक जमा कर बालकोनी में ठठा करती थी।
आज भी तीनों की तीनों बालकोन में खड़ी आपस में उसी तरह चुहलें कर रही थीं और बृजमोहन चुपचाप सड़क पर खड़ा उनके हाव-भाव देख रहा था।
यकायक बड़ी ने एक भरपूर अंगड़ाई ली। उसके जीवन का उभार नुमाया हो गया। मंझली ने झांककर नीचे देखा और हाथ पीछे करके पीठ खुजाई। पान की दुकान के निकट खड़े एक युवक ने मुसकराकर बालकोनी की तरफ देखा तो छोटी ने मंझली को कोहनी से ठोका दिया और फिर तीनों की तीनों हंसने लगीं... और वृजमोहन का दिल एक अनजाने डर से कांपने लगा।... आखिर वही हुआ जिस बात का डर था... आखिर वही हुआ यह डर बृजमोहन के दिल में उसी दिन घर कर गया था जिस दिन उसने नसीमजान का सिंघारदान लूटा था। जब बलवाई रंडी पाडे में घुसे थे ते कोहराम मच गया था। बृजमोहन और उसकेसाथी दनदनाते हुए नसीमजान के कोठे पर चढ़ गए थे। नसीमजान खूब चीखी-चिल्‍लाई थी। बृजमोहन जब सिंघारदान लेकर उतरने लगा था तो उसके पांव से पिलटकर गिड़गिड़ाने लगी थी –‘भैया, य पुश्‍तैनी सिंघारदान है... इसको छोड़ दो... भैया...
लेकिन बृजमोहन ने अपने पांव को जोर का झटका दिया था।
चल हट... रंडी...
और वह चारों खाने चित गिरी थी। उसकी साड़ी कमर तक उठ गई थी। लेकिन पिफर उसने तुरंत ही खुद को संभाला और एक बार फिर बृजमोहन से लिपट गई थी—‘भैया... यह मेरी नानी की निशानी है... भैया...
इस बार बृजमोहन ने उसकी कमर पर जोर की लात मारी। नसीमजान जमीन पर दोहरी हो गई। उसके ब्‍लाउज के बटन खुल गए और छातियां झूलने लगीं। बृजमोहन ने छुरा चमकाया –‘काट लूंगा...
नसीमजान सहम गई और दोनों हाथों से छातियों को ढंकती हुई कोने में दुबक गई। बृजमोहन सिंघारदान लिए नीचे उतर गया।
बृजमोहन जब सीढि़यां उतर रहा था तो यह सोचकर उसको लिज्‍जत मिली कि सिंघारदान लूटकर उसने नसीमजान को गोया उसकी पुश्‍तैनी सम्‍पदा से महरूम क‍र दिया है। यकीननन यह मूरूसी सिंघारदान था जिसमें उसकी परनानी अपना अक्‍स देखती होगी फिर उसकी नानी और उसकी मां भी इसी सिंघादान के सामने बन-ठनकर ग्राहकों से आंखें लड़ाती होगी। बृजमोहन यह सोचकर खुश होने लगा कि भले ही नसीमजान इससे अच्‍छा सिंघारदान खरीद ले लेकिन ये पुश्‍तैनी चीज जो इसको अब मिलने से रही। तब एक पल के लिए बृजमोहन को लगा कि आगजनी और लूटमार से लिप्‍त दूसरे दंगाई भी भावना की इस तरंग से गुजर रहे होंगे कि एक समुदाय को उसकी विवशता से महरूम कर देने के षड्यंत्र में वह पेश है।
बृजमोहन जब घर पर पहुंचा तो उसकी पत्‍नी को सिंघारदान भा गया। शीशा उसको धुंधला मालूम हुआ तो वह भीगे हुए कपड़े से पोंछने लगी। शीशे में जगह-जगह तेल के गर्द आलूद धब्‍बे थे। साफ होने पर शीशा झलझल कर उठा और बृजमोहन की पत्‍नी खुश हो गई। उसने घूम-धूमकर अपने को आईने में देखा। फिर लड़कियां भी बारी-बारी से अपना अक्‍स देखने लगीं।
बृजमोहन ने भी सिंघारदान में झांका तो आदमकद शीशे में उसको अपना अक्‍स मुकम्‍मल और आकर्षक लगा। उसको लगा सिंघारदान में वाकई एक खास बात है। उसके जी में आया कुछ देर अपने आपको देखे लेकिन यकायक नसीमजान बिलखती नजर आई-भैया... सिंघारदान  छोड़ दो...
चल हट रंडी.... बृजमोहन ने सिर को गुस्‍से में तो-तीन झटके दिए और सामने से हट गया।
बृजमोहन ने सिंघारदान अपने बेडरूम में रखा। अब कोई पुराने सिंघारदान को पूछता नहीं था। नया सिंघारदान जैसे सब का महबूब बन गया था। घर का हर व्‍यक्ति खामखा भी आईने के सामने खड़ा रहता। बृजमोहन अक्‍सर सोचता कि रंडी के सिंघारदान में आखिर क्‍या भेद छुपा है कि देखने वाला आईने से चिपक-सा जाता है? लड़कियां जल्‍दी हटने का नाम नहीं लेती हैं और पत्‍नी भी रह-रहकर खुद को हर कोण से घूरती रहती है... यहां तक कि खुद वह भी... लेकिन उसके लिए देर तक आईने का सामना करना मुश्किल होता... तुरंत ही नसीमजान रोने लगती थी और बृजमोहन के दिलो-दिमाग पर धुआं-सा छाने लगता था।
बृजमोहन ने महसूस किया कि धीरे-धीरे घर के सबके रंग-ढंग बदलने लगे हैं। पत्‍नी अब कूल्‍हे मटकाकर चलती थी और दांतों में मिस्‍सी भी लगाती थी। लड़कियां पांव में पायल भी बांधने लगी थीं और नित नये ढंग से बनाव-सिंघार में लगी रहती थीं। टीका, लि‍पस्टिक और काजल के साथ वह गालों पर तिल भी बनातीं। घर में एक पानदान भी आ गया था और हर शाम फूल और गजरे भी आने लगे थे। बृजमोहन की पत्‍नी शाम में ही पानदान खोलकर बैठ जाती। छालियां कुतरती और सबके संग ठिठोलियां करती और बृजमोहन तमाशाई बना सब कुछ देखता रहता। उसको हैरत थी कि उसकी जुबान बंद क्‍यों हो गई है... वह कुछ बोलता क्‍यों नहीं...? उन्‍हें फटकारता क्‍यों नहीं...?
एक दिन बृजमोहन अपने कमरे में मौजूद था कि बड़ी सिंघारदान के सामने आकर खड़ी हो गई। कुछ देर उसने अपने आपको दाएं-बाएं देखा और चोली के बंद ढीले करने लगी। फिर बायां बाजू ऊपर उठाया और दूसरे हाथ की उंगलियों से बगल के बालों को छूकर देखा फिर सिंघारदान की दराज में लोशन निकालकर बगल में मलने लगी। बृजमोहन मानो सकते में था। वह चुपचाप बेटी की करतूत देख रहा था। इतने में मंझली भी आ गई और उसके पीछे-पीछे छोटी भी।
दीदी! लोशन मुझे भी दो...
क्‍या करेगी...? बड़ी इतराई।
दीदी! यह बाथरूम में लगाएगी... छोटी बोली।
चल हट... मंझली ने छोटी के गालों में चुटकी ली और तीनों की तीनों हंसने लगीं।
बृजमोहन का दिल आशंका से धड़कने लगा। इन लड़कियों के तो सिंघार ही बदलने लगे हैं। इनको कमरे में अपने बाप की उपस्थिति का भी ध्‍यान नहीं है। तब बृजमोहन अपनी जगह से हटकर इस तरह खड़ा हुआ कि उसका अक्‍स सिंघारदान में दिखने लगा। लेकिन लड़कियों के रवैये में कोई फर्क नहीं आया। बड़ी उसी तरह लोशन मलने में व्‍यस्‍त रही और दोनों उसके अगल-बगल खड़ी पीछे मटकाती रहीं।
बृजमोहन को लगा अब घर में उसका वजूद नहीं है। तब अचानक नसीमजान शीशे में मुस्‍कराई।
घर में अब मेरा वजूद है...
और बृजमोहन हैरान रह गया। उसको लगा वाकई नसीमजान शीशे में बंद होकर चली आई है और एक दिन निकलेगी और घर के चप्‍पे-चप्‍पे में फैल जाएगी।
बृजमोहन ने कमरे से निकलना चाहा लेकिन उसके पांव मानो जमीन में गड़ गए थे। वह अपनी जगहसे हिल नहीं सका... वह खामोश सिंघारदान को तकता रहा और लड़कियां हंसती रहीं। सहसा बृजमोहन को महसूस हुआ कि इस तरह ठट्ठा करती लड़कियों के दरम्‍यान कमरे में इस वक्‍त इनका बाप नहीं एक...
बृजमोहन को अब सिंघारदान से खौफ मालूम होने लगा और नसीमजान अब शीशे में हंसने लगी। बड़ी चूडि़यां खनकाती तो वह हंसती। छोटी पायल बजाती तो वह हंसती और बृजमोहन को अब...
आज भी जब वे बालकोनी में खड़ी हंस रही थीं तो वह तमाशाई बना सब कुछ देख रहा था और उसका दिल किसी अनजाने डर से धड़क रहा था।
बृजमोहन ने महसूस किया कि राहगीर भी रुक-रुककर बालकोनी की तरफ देखने लगे हैं। यकायक पान की दुकान के निकट खड़े एक नवयुवक ने इशारा किया। जवाब में लड़कियों ने भी इशारे किए तो युवक मुस्‍कराने लगा।
बृजमोहन के मन में आया, युवक का नाम पूछे। वह दुकान की ओर बढ़ा, लेकिन नजदीक पहुंचकर चुप रहा। सहसा उसने महसूस किया कि युवक में वह इसी तरह दिलचस्‍पी ले रहा है जिस तरह लड़कियां ले रही हैं। तब यह सोचकर उसको हैरत हुई कि वह उसका नाम क्‍यों पूछना चाह रहा है...? आखिर उसके इरादे क्‍या हैं? क्‍या वह उसको लड़कियों के बीच ले जाएगा? बृजमोहन के होठों पर पल भर के लिए एक रहस्‍यमयी मुस्‍कान रेंग गई। उसने पान का बीड़ा कल्‍ले में दबाया और जेब से कंधी करते हुए उसको एक तरह की राहत का एहसास हुआ। उसने एक बार कनखियों से युवक की ओर देखा। वह एक रिक्‍शा वाले से आहिस्‍ता-आहिस्‍ता बातें कर रहा था और बीच-बीच में बालकोनी की तरफ भी देख रहा था। जेब में कंधी रखते हुए बृजमोहन ने महसूस किया कि वाकई उसकी युवक में किसी हद तक दिलचस्‍पी जरूर है.... यानी खुद उसके संस्‍कार भी... उंह... संस्‍कार-वंस्‍कार से क्‍या होता है...? यह उसका कैसा संस्‍कार था कि उसने एक रंडी को लूटा... एक रंडी को... किस तरह रोती थी... भैया... भैया मेरे... और फिर बृजमोहन के कानों में नसीमजान के रोने-बिलखने की आवाजें गूंजने लगीं... बृजमोहन ने गुस्‍से में दो-तीन झटके सिर को दिए। एक नजर बालकोनी की तरफ देखा, पान के पैसे अदा किए और सड़क पार करके घर में दाखिल हुआ।
अपने कमरे में आकर वह सिंघारदान के सामने खड़ा हो गया। उसको अपना रंग-रूप बदला हुआ नजर आया। चेहरे पर जगह-जगह झाइयां पड़ गई थीं और आंखों में कासनी रंग घुला हुआ था। एक बार उसने धोती की गांठ खोलकर बांधी और चेहरे की झाइयों पर हाथ फेरने लगा। उसके जी में आया कि आंखों में सुरमा लगाए और गले में लाल रूमाल बांध ले... कुछ देर तक वह अपने आपको इसी तरह घूरता रहा। फिर उसकी पत्‍नी भी आ गई। उसने अंगिया पर ही साड़ी लपेट रखी थी। सिंघारदान के सामने वह खड़ी हुई तो उसका आंचल ढलक गया। वह बड़ी अदा से मुस्‍कराई और आंख के इशारे से बृजमोहन को अंगिया के बंद लगाने के लिए कहा।
बृजमोहन ने एक बार शीशे की तरफ देखा। अंगिया में फंसी हुई छातियों का बिम्‍ब उसको लुभावना लगा। बंद लगाते हुए सहसा उसके हाथ छातियों की ओर रेंग गए।
उई दइया;;; बृजमोहन की पत्‍नी बल खा गई और बृजमोहन की अजीब कैफियत हो गई... उसने छातियों को जोर से दबा दिया।
हाय राजा... उसकी पत्‍नी कसमसाई और बृजमोहन की रगों में रक्‍तचाप बढ़ गया। उसने एक झटके में अंगिया नोचकर फेंक दी और उसको पलंग पर खींच लिया। वह उससे लिपटी हुई पलंग पर गिरी और हंसने लगी।
बृजमोहन ने एक नजर शीशे की तरफ देखा। पत्‍नी के नंगे बदन का अक्‍स देखकर उसकी रगों में शोला-सा भड़क उठा। उसने यकायक खुद को एकदम निर्वस्‍त्र कर दिया तब बृजमोहन की पत्‍नी उसके कानों में धीरे से फुसफुसाई –‘हाय राजा... लूट लो भरतपुर...
बृजमोहन ने अपनी पत्‍नी के मुंह से कभी उइ दइया और हाय राजा जैसे शब्‍द नहीं सुने थे। उसको लगा ये शब्‍द नहीं सारंगी के सुर हैं जो नसीमजान के कोठे पर गूंज रहे हैं... और तब...
और तब फिजा कासनी हो गई थी। शीशा धुंधला गया था... और सारंगी के सुर गूंजने लगे थे...
बृजमोहन बिस्‍तर से उठा, सिंघारदान की दराज से सुरमेदानी निकाली, आंखों में सुरमा लगाया, कलाई पर गजरा लपेटा और गले में लाल रूमाल बांधकर नीचे उतर गया और सीढि़यों के करीब दीवाल से लगकर बीड़ी के लंबे-लंबे कश लेने लगा...

(------)



Post a Comment