chhammakchhallokahis

रफ़्तार

Total Pageviews

छम्मकछल्लो की दुनिया में आप भी आइए.

Pages

|

Wednesday, September 5, 2007

छाम्मक्छाल्लो कहिस

छाम्मक्छाल्लो कहने को तो छमकती फिरती है, मगर बिना मतलब नहीं.वह यहाँ वहां की चीजें देख परख रही है। समय समय पर वह आपको अपनी देखी परखी चीजों, बातों, घटनाओं से अवगत कराती रहेगी.इसमें समय है, साहित्य है, दीं है, दुनिया है, मतलब इस जहाँ की हर वह चीज़ है, जिससे उसका वास्ता पङता रहता है और उसे यकीं है कि आप भी इन सबसे दो-चार तो होते ही होंगे.आपकी सहमति- असहमति दोनों ही उसे एक जैसी खुशी देगी.उसे दुख अगर पहुंचेगा तो सिर्फ इस बात से कि आपकी टिप्पणी उस तक नहीं पहुची.
Post a Comment