chhammakchhallokahis

रफ़्तार

Total Pageviews

छम्मकछल्लो की दुनिया में आप भी आइए.

Pages

|

Wednesday, November 7, 2007

दीवाली और दिलवाली

दिवाली औए दिवाला की बात तो हमेशा हर कोई कहता सुनता रहता है। कभी दिवाली और दिलवाली की भी बात सोचिए। दिवाली है कितनी दिलवाली की बस! रोशनी का अम्बार, फुल्झादियों की बौछार, अनार के फूटते दाने, चाकरी की रोशनदार छम-छम! आह! इन सबको महसूस करने और इन सबको जीने के लिए दिल तो चाहिए ही न ! की नहीं?
छ्म्माक्छाल्लो कहिस की दीवाली पर इतनी तरह की मिठाई बनाती है, घर की साफ-सफाई होती है, नए बर्तन खरीदे जाते हैं धनतेरस के दिन, आज धनतेरस है। कल नरक निवारण चतुर्दशी है। कहा जाता है की इस दिन घर के सारे कूदे करकट बाहर फेंक दिए जाने चाहिए। इसी रात को जम दियारी भी कहते हैं। यानी, दीवाली के दिन दिए जलने से पहले पहला दिया यमराज को अर्पित किया जाता है, ताकि वे प्रसन्न रहें और इधर का रुख न करें। लक्ष्मी के साथ-साथ गणेश की भी पूजा की जाती है ताकि रिद्धि-सिद्धि तो रहे ही, उनका विवेक, उनकी बुद्धि भी साथ रहे और लोग धन के मद में अनर्गल काम न करें।
छाम्माक्छाल्लो कहिस की काश ऐसा होता। घर का कूड़ा करकट तो हम वैसे भी बाहर फेंकने मी माहिर हैं। क्या कभी हम यह सोचते हैं की हमारी रात को रोशानादार बनाने के लिए छोटे छोटे बच्चे अपनी जान जोखम में डालकर पटाखे के कारखाने में काम करते हैं। यमराज की पूजा तो हम करते हैं, मगर घर या घर के प्यारे क्या हमारे अपने ही भाई बंधू हैं? दूसरे के घर के लोग भी तो उनके लिए उतने ही प्यारे और महत्वपूर्ण होते हैं। दिवाली की रोशन भारी शाम में हम क्या यह सोचेंगे की कम से कम हमसे ऎसी कोई भूल ना हो की उसका खामियाजा दूसरों को भुगतना पड़े। छाम्माक्छाल्लो के दिमाग में एक बात हमेशा बजती रहती है की अगर आप किसी का भला नहीं कर सकते तो किसी का बुरा भी मत करो। उसके प्रति आपकी यही सबसे बड़ी भलाई हो जाएगी।
छाम्मकछाल्लो अपनी इस बात पर अमल करने की कोशिश में लगी रहती है। दीवाली है, वह महिलाओं के एक वृद्धाश्रम में जाएगी, घरों से अपने ही प्रियजनों द्वारा दूर कर दिए गए, अपने ही घर से बेदखल कर दिए गए लोगों से मिलेगी, उनके साथ कुछ समय बिताएगी, ताकि उनके भी जीवन में मुस्कान के कुछ पल आएं। वैसे भी वे सभी छाम्माक्छाल्लो को देखकर बहुत खुश होती हैं। तो दीवाली इन्हीं दिलावालियों के साथ क्यों न मनाई जाए। अगर आप भी ऐसी दिलवाली दीवाली मना रहे हों तो छाम्माक्छाल्लो को ज़रूर बताएं। आपको एक और दिलवाली मिल जाएगी।
चलते - चलते आप सबको छाम्मकछाल्लो की और से दीवाली की हार्दिक शुभकामनाएं।
Post a Comment